Connect with us

अर्ली बुलेटिन

कहीं, आप तो नहीं कर रहे अपने बच्चों के साथ ये गलती?

स्वास्थ्य

कहीं, आप तो नहीं कर रहे अपने बच्चों के साथ ये गलती?

हर बच्चा एक जैसा नहीं होता है। किसी की स्मरण शक्ति और मेनटल ग्रोथ तेज होती है तो किसी की अपेक्षाकृत थोड़ी कम होती है। लेकिन अक्सर माता-पिता यह बात समझने के बजाय अपने बच्चों की होशियार बच्चों से तुलना कर उन्हें डांटते-फटकारते रहते हैं।

जिससे बच्चे खुद में सुधार करते-करते एक स्टेज के बाद डिप्रेशन के शिकार हो जाते हैं। ऐसे में अपने बच्चों को किसी से कमतर आंकना गलत है।

slow

अगर आप भी कुछ इसी तरह की समस्या का सामने कर रहे हैं तो अपने बच्चों पर दबाव बनाने से पहले यह जानने कि कोशिश करिए कि जिस चीज के लिए आप अपने बच्चे पर दबाव बना रहे हैं उस काम में उसकी रूचि है भी या नहीं?

इसके बाद आप यह देखिए कि उस काम को करने के लिए आपके बच्चे में उतनी शारीरिक क्षमता है या नहीं?

slow2

शारीरिक क्षमता से हमारा मतलब है कि बच्चे का शारीरिक और मानसिक क्षमता किससे है। इसे जानने का सबसे अच्छा तरीका यह है कि बच्चे की डाइट कैसी है।

क्योंकि जब तक बच्चा अपने आहार में प्रोटीन और पोषक तत्वों को शामिल नहीं करेगा तब तक वह स्लो लर्नर का शिकार रहेगा।

अगर आपका बच्चा घर के बने खाने में दिलचस्पी नहीं लेता है तो यह जरूरी है कि आप उसे अलग से प्रोटीन नहीं दे सकते। जी हां, अगर आपका बच्चा घर के खाने में रुचि नहीं लेता तो आप हिम्मत मत हारिए।

slow3

क्योंकि यही वक्त है जब आपको अपने बच्चे पर सबसे ज्यादा ध्यान देने की जरूरत है। प्रोटीन बढ़ते बच्चों के लिए बहुत आवश्यक आहार है जो उनकी अच्छी ग्रोथ में मदद करता है।

ये है प्रोटीन के सही स्रोत

ऐसी स्थिति में आप अपने बच्चों को अंकुरित दाल, दही या दूध-केला जैसे पोषक पदार्थ दे सकते हैं। आजकल सर्दियां हैं, ऐसे में आप बच्चों को सुबह-शाम भीगे हुए बदाम को दूध के साथ दे सकते हैं। इसके साथ ही अगर आपका बच्च नॉनवेज खाता है तो आप वो भी दे सकते हैं। खासतौर से फिश यानि कि मछली में सबसे ज्यादा प्रोटीन पाया जाता है।

slow1

इसके साथ ही आप अपने बच्चों को ओट्स की खिचड़ी भी दे सकते हैं। इसे बच्चे खूब पसंद भी करते हैं। कद्दू के बीज (9ग्राम ) तिल (6ग्राम), सूरजमुखी (8ग्राम), अपने खाने में इन बीजों का इस्तेमाल करें।

इनमें प्रोटीन काफी अच्छी मात्रा में पाया जाता है। अगर आपका बच्चा पनीर की सब्जी नहीं खाता तो उसे पनीर सलाद की तरह दें। ये सभी चीजें बच्चों को ध्यान में रखकर बताई गई हैं।

protein

इसके अलावा बाजार में कई तरह के प्रोटीन सप्लीमेंट्स भी मिलते हैं। हालांकि हम आपको उन्हें लेने की सलाह नहीं दे रहे हैं। लेकिन कुछ सप्लीमेंट्स ऐसे भी होते हैं जिनमें प्रोटीन, ओमेगा-3, फैट, कॉर्बोहाईड्रेट के साथ ही कई ऐसे पोषक तत्व भी शामिल होते हैं जो बच्चों को शारीरिक और मानसिक दोनों तरह से स्वस्थ रखते हैं।

इसके साथ ही हम यही कहेंगे कि आप अपने बच्चों पर मानसिक दबाव देने के बजाय उनकी डाइट पर ध्यान दें।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

स्वास्थ्य से और भी ...

लाइक करें फ़ेसबुक पेज

पॉपुलर न्यूज़

वायरल न्यूज़

स्पॉन्सर्स साइट

ऊपर जाएँ

Pin It on Pinterest

Shares

शेयर करें

अपने मित्रों के साथ इस पोस्ट को शेयर करें!